Homeसारणसारण और भोजपुर का कुख्यात अपराधी लाल बाबू यादव को पुलिस ने...

सारण और भोजपुर का कुख्यात अपराधी लाल बाबू यादव को पुलिस ने किया गिरफ्तार

Bihar: सारण और भोजपुर के कुख्यात अपराधी लाल बाबू यादव को सारण पुलिस एवं एसटीएफ के द्वारा संयुक्त कार्यवाई करते हुए दियारा का आतंक और लाल बालू के अवैध खनन में अपना वर्चस्व कायम करने वाला सारण जिले के कुख्यात लालबाबू यादव को डोरीगंज थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया है। लाल बाबू यादव पर सारण और आरा में दर्जनों मामले दर्ज है। जिसको लेकर सारण और आरा सहित पटना पुलिस के अलावा एसटीएफ को कई वर्षो से इसकी तलाश थी। लालबाबू के साथ भारी संख्या में जिंदा कारतूस बरामद किया गया है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

NS News

वही आरा के कोइलवर में बीते 1 मई को अवैध बालू खनन में वर्चस्व को लेकर दो गुटों में जमकर गोलीबारी हुई थी। जिसमें दो लोगो को मौत के घाट उतार दिया गया था। जिसको लेकर सारण सहित कई जिलों की पुलिस को कुख्यात लालबाबू की तलाश थी। जिसके बाद बिहार एसटीएफ और सारण पुलिस ने योजना बद्ध तरीके से छापेमारी करते हुए लालबाबू  यादव  को डोरीगंज थाना क्षेत्र के कुतुबपुर चकिया से गिरफ्तार किया है। डीएसपी मुख्यालय डॉ राकेश कुमार एवं एसडीपीओ सदर राज किशोर सिंह ने संयुक्त रूप से प्रेस वार्ता कर मामले से सम्बंधित जानकारी देते हुए बताया की  सारण जिले के डोरीगांज थाना क्षेत्र अंतर्गत कुतुबपुर चकिया गांव निवासी गंगा सागर राय का पुत्र लालबाबू यादव को संबंधित थाना क्षेत्र से गिरफ्तारी हुई हैं। साथ ही 315 बोर का 133 पीस ज़िंदा कारतूस भी बरामद किया गया है। हालांकि किसी हथियार की बरामदगी नही हुई है। सबसे अहम बात यह है कि लालबाबू यादव का सारण और आरा के दियारा क्षेत्र में अवैध बालू कारोबार में काफ़ी लंबे समय से वर्चस्व रहा है।

सदर एसडीपीओ राज किशोर सिंह ने बताया की सारण जिला में टॉप 10 अपराधियो के गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है। जिसमें कुख्यात लालबाबू यादव को गिरफ्तार किया गया है। बीते 1 मई को आरा के कोईलवर थाना क्षेत्र में अवैध बालू खनन को लेकर गुड्डू राय और सत्येंद्र पाण्डेय गिरोह में वर्चस्व को जमकर गोलीबारी हुई थी। जिसमें दो लोगो की मौत भी हो गई थी। उस हत्या कांड में लालबाबू यादव वांटेड था। एसटीएफ और सारण जिला पुलिस के द्वारा संयुक्त अभियान में इसकी गिरफ्तारी की गई है। इस मामले में 315 बोर के 133 जिंदा कारतूस जब्त किया गया है। लेकिन हथियार की बरामदगी के लिए हमारी टीम लगी हुई हैं। जिससे कोइलवर में घटना को अंजाम दिया गया था। लालबाबू यादव के अपराधिक इतिहास को पुलिस खंगाल रही है। साथ ही और कई बिंदुओं पर जांच किया जा रहा है।

 

 

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments