Homeचांदविधायक की शिकायत पर स्थिलता बरतने वाले थानाध्यक्ष निलंबित, DM SP ने...

विधायक की शिकायत पर स्थिलता बरतने वाले थानाध्यक्ष निलंबित, DM SP ने किया जांच

Bihar: कैमूर जिले के चांद थाना क्षेत्र के ग्राम सिलौटा में विधायक एवं उनके घरवालों के ऊपर किए गए सामूहिक हमले की विधायक के द्वारा चांद थाने में की गई शिकायत पर थानाध्यक्ष के द्वारा स्थिरता बरतने के मामले में कैमुर एसपी ने कार्रवाई करते हुए चांद थानाध्यक्ष राजीव रंजन सिंह को निलंबित कर दिया है, वहीं इस घटना को गंभीरता से लेते हुए कैमूर डीएम सावन कुमार एवं एसपी ललित मोहन शर्मा ने घटनास्थल पर पहुंच कर जांच की है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

सिलौटा गांव में जिलाधिकारी

आपको बताते चलें की 3 जुलाई 2024 की शाम ग्राम सिलौटा में भभुआ विधायक भरत बिंद के आवास पर कुछ सामाजिक तत्वों के द्वारा मारपीट की गई थी जिसमें विधायक भरत बिंद एवं उनके परिवार के लोग घायल हो गए थे, जानकारी के मुताबिक पूरा मामला जमीन विवाद से जुड़ा हुआ है, जिसके बाद इस मामले में विधायक के द्वारा चांद थाने में आवेदन देते हुए शिकायत की गई थी, मगर थानाध्यक्ष के द्वारा इसे गंभीरता से नहीं लिया गया।

मामले में प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कैमूर एसपी ललित मोहन शर्मा के द्वारा बताया गया भभुआ विधायक के पैतृक आवास चांद थाना क्षेत्र के ग्राम से सिलौटा में कुछ असामाजिक तत्वों के द्वारा विधायक एवं उनके परिवार वालों के ऊपर हमला करते हुए मारपीट की गई थी, मामले को थानाध्यक्ष राजीव रंजन सिंह चांद के द्वारा गंभीरता से नहीं लिया गया और ना ही कोई कार्रवाई की गई, जबकि इस मामले में कांड़ संख्या 129/24, 4 जुलाई 2024 को दर्ज हुई थी, मामले में तत्काल प्रभाव से थानाध्यक्ष राजीव रंजन सिंह को निलंबित करते हुए भभुआ में योगदान करने के निर्देश दिए गए हैं, साथ ही तीन दिनों के अंदर अपना स्पष्टीकरण देने को कहा गया है।

वहीं भभुआ विधायक भरत प्रसाद बिंद एवं वीरेंद्र यादव के बीच हुए विवाद के मामले को लेकर शनिवार कैमूर डीएम सावन कुमार एवं एसपी ललित मोहन शर्मा, एसडीएम विजय कुमार, डीसीएलआर अनुपम सहित चांद अंचलाधिकारी अपने कर्मियों के साथ घटनास्थल पर जांच के लिए पहुंचे जहां अतिक्रमित सरकारी भूमि की अंचल अमीन के द्वारा नापी की गई और तत्काल जमीन खाली करने को कहा गया है, मौके पर मौजूद डीएम के द्वारा आदेश दिया गया है, 3 दिनों के अंदर अगर अतिक्रमण नहीं हटता है तो, अतिक्रमणमुक्त करने की कार्रवाई करें।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments