Homeगोपालगंजभागलपुर डीएम के नाम से फर्जी फेसबुक अकाउंट बना 20 हजार की...

भागलपुर डीएम के नाम से फर्जी फेसबुक अकाउंट बना 20 हजार की ठगी

Bihar: गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर थाना क्षेत्र के दिघवा दुबौली से एक खबर सामने आ रही है जंहा एक व्यक्ति से भागलपुर के जिलाधिकारी डा. नवल किशोर चौधरी की फर्जी फेसबुक आइडी बनाकर 20 हजार रुपये की साइबर ठगी कर लिया गया है। मामले में पीड़ित संजय कुमार पांडेय के द्वारा गोपालगंज साइबर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। उनके द्वारा दर्ज प्राथमिकी में बताया गया है कि 6 जुलाई की सुबह गोपालगंज के पूर्व जिलाधिकारी व वर्तमान में भागलपुर के जिलाधिकारी डा. नवल किशोर चौधरी की फेसबुक आइडी से मैसेज बाक्स में एक संदेश प्राप्त हुआ। इसमें संतोष कुमार नाम के सीआरपीएफ अफसर के काल आने की बात कही गई।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

NS News

मैसेज पढ़ने की कुछ ही देर बाद संतोष कुमार नाम के एक व्यक्ति ने अज्ञात मोबाइल नंबर से उनके मोबाइल पर काल किया। खुद को पटना सीआरपीएफ का कमांडेंट बताते हुए फोन पर बातचीत की। कथित सीआरपीएफ कमांडेंट ने जम्मू कश्मीर में स्थानांतरण होने के बाद इलेक्ट्रानिक सामान व फर्नीचर बेचने की बात कही। साथ ही अपने प्रबंधन से सभी सामान को भिजवा देने की बात भी कही। इलेक्ट्रानिक सामान व फर्नीचर भेजने के लिए 20 हजार रुपये की मांग संजय से की गई। जिसके बाद  मुन्नी देवी के फोनपे पर 20 हजार रुपये सीआरपीएफ कमांडेंट के कहने पर भेज दिया गया। इसके बाद संजय की ओर से भागलपुर के जिलाधिकारी डा. नवल किशोर चौधरी से दूरभाष पर बातचीत की गई। इसमें उन्होंने उस व्यक्ति को अनजान बताया।

जिसके बाद पीड़ित की ओर से साइबर क्राइम कंट्रोल हेल्पलाइन नंबर 1930 पर साइबर ठगी का शिकार होने की जानकारी देते हुए लिखित शिकायत देकर साइबर थाने में प्राथमिकी कराई गई है। शिकायत के आधार पर प्राथमिकी कर लेने के बाद साइबर थाने की पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है। साइबर अपराधियों ने गोपालगंज के जिलाधिकारी मो. मकसूद आलम के व्हाट्सएप अकाउंट को बीते 17 जून को हैक कर लिया था। इस मामले में गोपनीय शाखा गोपालगंज में कार्यरत मुकेश कुमार वर्मा ने साइबर थाना गोपालगंज में प्राथमिकी कराई थी। इसमें उन्होंने आरोप लगाया कि अज्ञात साइबर अपराधियों की ओर से डीएम के सरकारी नंबर पर चल रहे व्हाट्सएप को हैक कर लिया गया था। इससे संदेश प्राप्त करने तथा भेजने में कठिनाई हो रही थी। इसकी प्राथमिकी साइबर थाना में कराई गई थी।

 

 

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments