Homeभगवानपुरभगवानपुर के युवक की अहमदाबाद में सड़क हादसे में मौत

भगवानपुर के युवक की अहमदाबाद में सड़क हादसे में मौत

Bihar: कैमूर जिले के स्थानीय थाना भगवानपुर गांव के एक युवक की गुजरात प्रांत के अहमदाबाद में सड़क दुर्घटना में मौत हो गई है। दरसल यह घटना बीते शनिवार की रात करीब 11:00 बजे की बताई जा रही है। मृतक युवक की पहचान स्थानीय थाना क्षेत्र अंतर्गत भगवानपुर गांव निवासी स्वर्गीय राजेंद्र लाल श्रीवास्तव उर्फ़ मुंशीलाल का पुत्र विजय श्रीवास्तव उर्फ़ मुन्नालाल के रूप में की गई है। घटना के संबंध में दुर्गावती थाना क्षेत्र अंतर्गत कनपुरा (पिपरा-कनपुरा) गांव निवासी मृतक के ससुर प्रभुलाल ने बताया कि मेरे दामाद मुन्ना लाल अहमदाबाद जिले के तड़का-सारण थाना क्षेत्र अंतर्गत चांगोदर गांव के हिस्से में स्थित रिंच-पाना उत्पादन करने वाली सुलेक्शन नामक कंपनी में कार्य करते थें।  

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

NS Newsवही वह कंपनी में ड्यूटी करके अपने डेरे के लिए पैदल लौट रहे थें, इसी दौरान हाईवे पर सड़क पार करते समय किसी अज्ञात वाहन ने उन्हें जोरदार टक्कर मार दी। जिसके कारण उनकी घटनास्थल पर हीं मौत हो गई। मृतक के ससुर प्रभुलाल ने बताया कि मृतक की पहचान पुलिस ने शव के पैंट के पॉकेट में पड़े आधार कार्ड के माध्यम से की, डेड बॉडी के पैंट में हीं पड़े मोबाइल के माध्यम से सर्वप्रथम इस घटना की सूचना मेरे परिवार वालों को दी। तब हमारे परिवार द्वारा इस घटना की जानकारी भगवानपुर गांव के उनके परिजनों को दी गई। इधर विजय श्रीवास्तव उर्फ मुन्ना लाल के चचेरे भाई रामेश्वर श्रीवास्तव उर्फ बंगा लाल व भुवनेश्वर लाल उर्फ ठगनलाल ने बताया कि विगत 2012 में मृतक की शादी प्रभुलाल की बेटी बबीता देवी से हुई थी। 

जिससे लक्की कुमारी,  लड्डू श्रीवास्तव एवं नैरा उर्फ नैना (दुधमुंही बच्ची) समेत कुल तीन संतान हैं। मृतक का परिवार अत्यंत गरीब है, जिससे उनका भरण-पोषण करना अब काफी कठिन है। बताया जाता है कि मृतक की बड़ी बेटी लक्की व बेटा लड्डू भगवानपुर बाजार के हीं सरकारी विधालय में पढ़ रहे थें। एसे में अब मृतक के परिजनों के भरण-पोषण का बोझ कौन उठाएगा, यह एक बड़ी समस्या खड़ी हो गई है। घटना के बाद पुलिस के द्वारा मृतक के शव को बगल के हीं सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम कराने के बाद शव को उनके रिश्तेदारों को सौंप दिया गया। जिसके बाद एंबुलेंस के माध्यम से सोमवार को अपराह्न करीब सवा तीन बजे मृतक का शव जैसे ही उसके दरवाजे पर पहुंचा, वैसे हीं सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ मौके पर मौजूद हो गई और परिजनों में चीख-पुकार मच गई।

 

 

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments