Homeरामपुरप्यार करने की दी गई सजा काली मां के मंदिर में युवक...

प्यार करने की दी गई सजा काली मां के मंदिर में युवक की चढ़ा दी गई बली

Bihar: रामपुर स्थानीय प्रखंड के बेलाव थाना क्षेत्र अंतर्गत शुक्रवार की रात एक युवक की काली मन्दिर में चाकू से गला रेत कर बलि चढ़ा देने का मामला सामने आया है। दरसल यह घटना बेलाव थाना क्षेत्र के बेलाव गांव के पूरब में मां काली मंदिर की है। मृतक युवक की पहचान बेलाव गांव से सटे सोनरा गांव निवासी सूचित राम का पुत्र पंकज कुमार के रूप में की गई है। घटना का कारण प्रेम प्रसंग बताया जा रहा है। घटना की सूचना पर बेलाव थाने की पुलिस पहुंची। मामला गंभीर होते देख बेलाव थाना के प्रभारी थानाध्यक्ष अमितेज कुमार ने इसकी सूचना वरीय पदाधिकारी को दिया। सूचना पर भभुआ एसडीपीओ शिवशंकर कुमार के अलावे सर्किल इंस्पेक्टर के साथ भगवानपुर, सोनहन, करमचट थाना के साथ जिला से भारी मात्रा में पुलिस घटना स्थल पर पहुची।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

NS NewsNS News

पुलिस टीम ने जब शव को कब्जे में लेना चाहा तो परिजन और लोगो के द्वारा शव को उठने नहीं दिया गया। परिजन हत्यारो की गिरफ्तारी और फांसी की सजा मांग कर रहे थे। जिसके बाद परिजनों को कार्रवाई का भरोसा देकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भभुआ सदर अस्पताल भेजा गया। परिजनों ने बताया कि घटना की जानकारी उन्हें शनिवार की सुबह लगभग 5:30 बजे बेलाव गांव के लोगो से मिली। गांव के ही एक लड़की से प्रेम प्रसंग था। लड़की ने लड़के से महाराष्ट्र में शादी की थी। कुछ दिन पहले लड़का आया था। शुक्रवार को बेलाव सब्जी लाने गया था। फिर घर नहीं लौटा। आज हत्या की जानकारी मिली है।

वही घटना की सूचना पर भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष सहित कई संगठन के नेता और कार्यकर्ता पहुंचे। इस मामले में भभुआ एसडीपीओ शिवशंकर कुमार ने बताया की प्रेम प्रसंग में युवक की हत्या हुई है। दो संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है। परिजनों के अनुसार, मृतक अपने तीन भाई और तीन बहनों में बड़ा था। बेटे की हत्या से मां दुखंती देवी का रो रोकर बुरा हाल हो रहा था।

मृतक महाराष्ट्र के एक कंपनी में काम करता था। गांव की ही एक नाबालिग लड़की ने पंकज को अपने प्रेमजाल में फंसा ली थी। दोनों मुंबई भाग गए थे। जहां दोनों ने मंदिर और कोर्ट में शादी कर ली थी। एक माह साथ में रहे। जब लड़की के परिजनों ने लड़के के परिजनों पर दबाव बनाया तो दोनों गांव आ गए। 5 माह पहले लड़की के पिता द्वारा बेलांव थाने में लड़की भगाने के मामले में पंकज पर प्राथमिकी दर्ज कराई। जिसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। परिजनों ने बताया कि पंकज 4 महीने तक जेल में रहा। पटना हाईकोर्ट से 15 मई को उसकी जमानत हुई। 21 मई को वह जेल से बाहर आया।

26 मई को पंकज कोर्ट मैरिज का सर्टिफिकेट लाने के लिए मुंबई गया था। 3 जून को मुंबई से वापस आया और 4 जून को कागजात थाने को सौंपा।  इस बीच भी पंकज को जान से मारने की धमकी और घर पर आकर गाली गलौज लड़की वाले करते थे। परिजनों ने हत्या के बाद बेलाव थाने की पुलिस पर लड़की वाले से मिलीभगत का आरोप लगाया है। क्योंकि जब मृतक पंकज को जान से मारने की धमकी और घर पर गाली गलौज होने की शिकायत आवेदन थाने पर देने के लिए परिजन कई बार गए तो आवेदन नहीं लिया गया। इस घटना के बाद ग्रामीणों में आक्रोश है।

 

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments